J̱ālimasiṃha [VerfasserIn]
Pathikadarśana — Lakhanaū, 1917

Page: 1
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/jalimasimha1917a/0009
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
भूमिका ।
हरएक पुरुष को अपनी मातृभूमि प्रिय लगती है, उसमें वह
अनेक प्रकार का दुःख भी उठाता है, पर मोहवश उसका
त्याग नहीं करता है. यदि वह भूमि देव योग्य स्थानों करके
सुलक्षित हो, भोगों करके भरी पुरी हो, रत्नों करके संयुक्त हो,
नदियों करके शीतल हो, पुष्पों करके सुगंघित हो, वृक्षों करके
मनोहर हो, अन्न फल करके सुखदायक हो, और सुंदर स्त्री
पुरुषों करके शोभायमान हो तो वह निःसंदेह स्वर्ग है. वहां के
वासियों का शुद्धाचरण, सरल सुभाव, मीठी सुरीली वाणी
ऐसी आकर्षण शक्ति रखती है कि उनके वशीभूत देवता भी हो
जाते हैं, मनुष्य की क्या गिन्ती है. इस पर प्रश्न हो उठता है कि
क्या ऐसा सुहावना देश कोई इस भूमंडल बिषे है ? उत्तर यही
मिलता है कि यदि कोई है तो केवल एक भारतखंड ही है,
दूसरा नहीं, कारण इसका यह है कि जब जब सृष्टि महाप्रलय
के पश्चात् होती है, तब तब देवगण इस भूमि को सबसे उत्तम
जानकर इसमें मनुष्ययोनि बिषे जन्म लेते हैं, और उनके सन्तान
भी तदनुसार ही बरतते चले आते हैं. यद्यपि काल के परि-
वर्तन करके बहुत अन्तर पड़ जाता है, पर गुप्त कारण वीर्य
से समयानुकूल अनेक प्रकार के धर्मों के ऐसे घने हरे भरे बहु
शाखावाले कल्पतरु उत्पन्न होते हैं कि जिनके आश्रित होकर स्त्री
पुरुष ऐसे आश्चर्य युक्त धर्म संबन्धी कार्य करते हैं कि वे उसके
कारण अन्य देशों के लिये उदाहरण बनते हैं, और उनकी
देखादेखी विदेशी जन भी अपने को कुछ कुछ सुधारने लगते हैं,


bhūmikā |
haraeka puruṣa ko apanī mātṛbhūmi priya lagatī hai, usameṃ vaha
aneka prakāra kā duḥkha bhī uṭhātā hai, para mohavaśa usakā
tyāga nahīṃ karatā hai. yadi vaha bhūmi deva yogya sthānoṃ karake
sulakṣita ho, bhogoṃ karake bharī purī ho, ratnoṃ karake saṃyukta ho,
nadiyoṃ karake śītala ho, puṣpoṃ karake sugaṃghita ho, vṛkṣoṃ karake
manohara ho, anna phala karake sukhadāyaka ho, aura suṃdara strī
puruṣoṃ karake śobhāyamāna ho to vaha niḥsaṃdeha svarga hai. vahāṃ ke
vāsiyoṃ kā śuddhācaraṇa, sarala subhāva, mīṭhī surīlī vāṇī
aisī ākarṣaṇa śakti rakhatī hai ki unake vaśībhūta devatā bhī ho
jāte haiṃ, manuṣya kī kyā gintī hai. isa para praśna ho uṭhatā hai ki
kyā aisā suhāvanā deśa koī isa bhūmaṃḍala biṣe hai ? uttara yahī
milatā hai ki yadi koī hai to kevala eka bhāratakhaṃḍa hī hai,
dūsarā nahīṃ, kāraṇa isakā yaha hai ki jaba jaba sṛṣṭi mahāpralaya
ke paścāt hotī hai, taba taba devagaṇa isa bhūmi ko sabase uttama
jānakara isameṃ manuṣyayoni biṣe janma lete haiṃ, aura unake santāna
bhī tadanusāra hī baratate cale āte haiṃ. yadyapi kāla ke pari-
vartana karake bahuta antara paड़ jātā hai, para gupta kāraṇa vīrya
se samayānukūla aneka prakāra ke dharmoṃ ke aise ghane hare bhare bahu
śākhāvāle kalpataru utpanna hote haiṃ ki jinake āśrita hokara strī
puruṣa aise āścarya yukta dharma saṃbandhī kārya karate haiṃ ki ve usake
kāraṇa anya deśoṃ ke liye udāharaṇa banate haiṃ, aura unakī
dekhādekhī videśī jana bhī apane ko kucha kucha sudhārane lagate haiṃ,


loading ...