J̱ālimasiṃha [VerfasserIn]
Pathikadarśana — Lakhanaū, 1917

Page: 1
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/jalimasimha1917a/0011
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
श्रीहरिः ।
पथिकदृ्शन ।
कृष्णदेव परमहंस:-
एक दिन जब मैं हरिद्वार में गंगाजी के तट पर कमलआसन
से बैठा हुआ भगवद्गीता का पाठ कर रहा था, दो पुरुष, मेरे
सामने एकाएक आनकर खड़े होगये, और कहने लगे कि हम
दोनों बड़े दूरदेश से भारत और भारतवासियों की महिमा को
सुनकर रवदृष्टि दर्शनार्थ आये हैं; यदि यथोचित आशा की
पूर्णता न हुई और वापस चले गये तो हमारे हृदय को बड़ा
खेद होगा. उनकी वाणी प्रकट करती थी कि उनको इस भारत-
खंड के स्वरूपज्ञान की अति उत्कंठा होरही है, मैंने उनसे कहा
कि यदि आप अपनी कामना की पूर्णता चाहते हैं तो मेरा ऐसा
भेष धारण करिये. उन्होंने वैसाही किया, मैंने भी उनका साथ
दिया. हम सब शीघ्र चल पड़े, और सायंकाल होते होते एक
गांव में पहुँच गये. एक सुपात्र ब्राह्मण के द्वार पर अतिथि का
शब्द "ॐ हरि: " लगाया, गृह का स्वामी निकल आया, और
उसने बड़े प्रेम से अतिथिसत्कार किया, और एक शुद्ध विमल
शान्त स्थान हमारे विश्राम निमित्त बताया, हम सब उसमें उतरे,
और आदरपूर्वक भोजन पाकर शयन किया. हमारे कमरे से मिला
हुआ एक दूसरा कमरा था, उसमें एक स्त्री और एक पुरुष रहते
थे, बातचीत से मालूम हुआ कि पुरुष गृहस्वामी का पुत्र है,
और कई महीनों से असाध्य रोग से ग्रसित है. जब एक प्हर
रात्रि रहगई, और हम सब उठकर ईश्वराराधन में निज निज म्ता-


śrīhariḥ |
pathikadṛśana |
kṛṣṇadeva paramahaṃsa:-
eka dina jaba maiṃ haridvāra meṃ gaṃgājī ke taṭa para kamalaāsana
se baiṭhā huā bhagavadgītā kā pāṭha kara rahā thā, do puruṣa, mere
sāmane ekāeka ānakara khaड़e hogaye, aura kahane lage ki hama
donoṃ baड़e dūradeśa se bhārata aura bhāratavāsiyoṃ kī mahimā ko
sunakara ravadṛṣṭi darśanārtha āye haiṃ; yadi yathocita āśā kī
pūrṇatā na huī aura vāpasa cale gaye to hamāre hṛdaya ko baड़ā
kheda hogā. unakī vāṇī prakaṭa karatī thī ki unako isa bhārata-
khaṃḍa ke svarūpajñāna kī ati utkaṃṭhā horahī hai, maiṃne unase kahā
ki yadi āpa apanī kāmanā kī pūrṇatā cāhate haiṃ to merā aisā
bheṣa dhāraṇa kariye. unhoṃne vaisāhī kiyā, maiṃne bhī unakā sātha
diyā. hama saba śīghra cala paड़e, aura sāyaṃkāla hote hote eka
gāṃva meṃ pahuṁca gaye. eka supātra brāhmaṇa ke dvāra para atithi kā
śabda "ॐ hari: " lagāyā, gṛha kā svāmī nikala āyā, aura
usane baड़e prema se atithisatkāra kiyā, aura eka śuddha vimala
śānta sthāna hamāre viśrāma nimitta batāyā, hama saba usameṃ utare,
aura ādarapūrvaka bhojana pākara śayana kiyā. hamāre kamare se milā
huā eka dūsarā kamarā thā, usameṃ eka strī aura eka puruṣa rahate
the, bātacīta se mālūma huā ki puruṣa gṛhasvāmī kā putra hai,
aura kaī mahīnoṃ se asādhya roga se grasita hai. jaba eka phara
rātri rahagaī, aura hama saba uṭhakara īśvarārādhana meṃ nija nija mtā-


loading ...