Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 1
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0011
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
संपादक के दो शब्द
प्रस्तुत पुस्तक विविध विषयों पर लिखे गए मनोरम
लेखों का संग्रह है । प्राय: ऐसा होता है कि जिस वस्तु
को हम नित्यप्रति देखा करते हैं, उसके विषय में भी
हमारा ज्ञान अपूर्ण तथा कुंठित रहता है; और जब कोई
अन्य पुरुष उसके विषय में कोई नवीन बात बतलाता है,
तो हमारे आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहता । उस वस्तु
में हमारा विशेष अनुराग हो जाता है, तथा उसके विषय
में हमारी ज्ञान-पिपासा जाग्रत् हो जाती है । हमारी इस
अज्ञता का कारण है, अपनी परिस्थितियों के सूच्म
निरीक्षण का अभाव । इस पुस्तक के माय: सभी लेख
किसी न किसी नवीन विषय पर प्रकाश डालते हैं ।
अत: आशा की जा सकती है कि विद्यार्थियों में इनके
पढ़ने से नवीन विषयों के मति जिज्ञासा बढ़ेगी ।
जिन सज्जनों के लेखों से इस पुस्तक की सामग्री ली
गई है, उनके प्रति हार्दिक कृतज्ञता प्रकट किये बिना मैं
नहीं रह सकता । भाषा में आवश्यकतानुसार परिवर्तन
करना पड़ा है जिसके लिए आशा है, सहृदय लेखक
मुझे क्षमा करेंगे ।


saṃpādaka ke do śabda
prastuta pustaka vividha viṣayoṃ para likhe gae manorama
lekhoṃ kā saṃgraha hai | prāya: aisā hotā hai ki jisa vastu
ko hama nityaprati dekhā karate haiṃ, usake viṣaya meṃ bhī
hamārā jñāna apūrṇa tathā kuṃṭhita rahatā hai; aura jaba koī
anya puruṣa usake viṣaya meṃ koī navīna bāta batalātā hai,
to hamāre āścarya kā ṭhikānā nahīṃ rahatā | usa vastu
meṃ hamārā viśeṣa anurāga ho jātā hai, tathā usake viṣaya
meṃ hamārī jñāna-pipāsā jāgrat ho jātī hai | hamārī isa
ajñatā kā kāraṇa hai, apanī paristhitiyoṃ ke sūcma
nirīkṣaṇa kā abhāva | isa pustaka ke māya: sabhī lekha
kisī na kisī navīna viṣaya para prakāśa ḍālate haiṃ |
ata: āśā kī jā sakatī hai ki vidyārthiyoṃ meṃ inake
paढ़ne se navīna viṣayoṃ ke mati jijñāsā baढ़egī |
jina sajjanoṃ ke lekhoṃ se isa pustaka kī sāmagrī lī
gaī hai, unake prati hārdika kṛtajñatā prakaṭa kiye binā maiṃ
nahīṃ raha sakatā | bhāṣā meṃ āvaśyakatānusāra parivartana
karanā paड़ā hai jisake lie āśā hai, sahṛdaya lekhaka
mujhe kṣamā kareṃge |


loading ...