Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 67
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0093
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
अद्‌भुत चर्चा '६७
चन्द्राकार जाला वास्तव में शिल्पकला का एक उत्कृष्ट
नमूना है । १५ 'इंच के व्यास का जाल चालीस मिनट में पूरा
बन जाता है ।
७ - पर्वत यात्रा
(१)
प्रातःकाल मु ० गुलबाज़ख़ाँ ने नमाज़ पढ़ी, कपड़े पहने
और महरी से किराए की गाड़ी लाने को कहा । शीरीं बेगम
ने पूछा - आज सवेरे-सवेरे कहाँ जाने का इरादा है?
गुल० - ज़रा 'छोटे साहब को सलाम करने जाना है ।
शीरीं - तो पैदल क्यों नहीं चले जाते ? कौन बड़ी दूर है ।
गुल० - जो बात तुम्हारी समझ में न आवे, उसमें ज़बान
न खोला करो ।
शीरीं - पूछती तो हूँ, पैदल चले जाने में क्या हरज है?
गाड़ीवाला एक रुपए से कम न लेगा!
गुल० - (हँसकर) हुक्काम किराया नहीं देते । उसकी
हिम्मत है कि मुझसे किराया माँगे ?' चालान करवा दूँ ।
शीरीं - तुम तो हाकिम भी नहीं हो, तुम्हें वह क्यों ले
जाने लगा?
गुल० - हाकिम कैसे नहीं हूँ? हाकिम के क्या सींग-पूँछ
होती हैं, जो मेरे नहीं हैं?हाकिम का दोस्त हाकिम से कम


ad‌bhuta carcā '67
candrākāra jālā vāstava meṃ śilpakalā kā eka utkṛṣṭa
namūnā hai | 15 'iṃca ke vyāsa kā jāla cālīsa minaṭa meṃ pūrā
bana jātā hai |
7 - parvata yātrā
(1)
prātaḥkāla mu 0 gulabāज़ख़āṁ ne namāज़ paढ़ī, kapaड़e pahane
aura maharī se kirāe kī gāड़ī lāne ko kahā | śīrīṃ begama
ne pūchā - āja savere-savere kahāṁ jāne kā irādā hai?
gula0 - ज़rā 'choṭe sāhaba ko salāma karane jānā hai |
śīrīṃ - to paidala kyoṃ nahīṃ cale jāte ? kauna baड़ī dūra hai |
gula0 - jo bāta tumhārī samajha meṃ na āve, usameṃ ज़bāna
na kholā karo |
śīrīṃ - pūchatī to hūṁ, paidala cale jāne meṃ kyā haraja hai?
gāड़īvālā eka rupae se kama na legā!
gula0 - (haṁsakara) hukkāma kirāyā nahīṃ dete | usakī
himmata hai ki mujhase kirāyā māṁge ?' cālāna karavā dūṁ |
śīrīṃ - tuma to hākima bhī nahīṃ ho, tumheṃ vaha kyoṃ le
jāne lagā?
gula0 - hākima kaise nahīṃ hūṁ? hākima ke kyā sīṃga-pūṁcha
hotī haiṃ, jo mere nahīṃ haiṃ?hākima kā dosta hākima se kama


loading ...