Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 47
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0065
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
अद्‌भुत चर्चा ४७
मोटी पुस्तिकाएँ भी निकली हैं जिन्हें पढ़कर सुदूर देशांतर
में रहनेवाला मनुष्य भी सैंडो-प्रणाली से लाभ उठा सकता
है । स्त्री, पुरुष, बालक, युवा, वृद्ध, सभी उपकृत हो सकते
हैं । लंदन में सैंडो-प्रणाली का इतना आदर है कि सेना
और पुलिस-विभाग के सिवा स्वयं सम्राट् भी उसका अभ्यास
करते हैं । इसी लिए उन्होंने सैंडो को अपना राजकीय
व्यायाम-शिक्षक नियुक्त किया था । ऐसे सम्मान्य पद पर
वर्तमान ससार का कोई पहलवान अभी तक नहीं पहुँचा ।
सैंडो की मृत्यु से पाश्चात्य संसार का एक सुप्रतिष्ठित
यशस्वी पुरुषसिंह उठ गया ।
५-वर्तमान नेपाल
भाएतवर्ष की उत्तरीय सीमा नगराज हिमालय से
आच्छादित है । उसी के अंदर नेपाल-राज्य का विस्तार है ।
नेपाल-राज्य के उत्तर में तिब्बत है, दक्षिण में युख-प्रांत
और बिहार के उत्तरीय ज़िले हैं, पूर्व में दार्जिंलिंग और सिकिम
तथा पश्चिम की ओर अलमोड़ा और नैनीताल हैं ।
पुर्व से पश्चिम तक राज्य की लंबाई ४५० मील है
और चौड़ाई १५० से १६० मील तक । कुल रक़बा
५४,००० वर्गमील है । जन-संख्या ५६,००,००० है । प्रति
वर्गमील लगभग १०० मनुष्य की बस्ती है । यहाँ गोरखा,


ad‌bhuta carcā 47
moṭī pustikāeṁ bhī nikalī haiṃ jinheṃ paढ़kara sudūra deśāṃtara
meṃ rahanevālā manuṣya bhī saiṃḍo-praṇālī se lābha uṭhā sakatā
hai | strī, puruṣa, bālaka, yuvā, vṛddha, sabhī upakṛta ho sakate
haiṃ | laṃdana meṃ saiṃḍo-praṇālī kā itanā ādara hai ki senā
aura pulisa-vibhāga ke sivā svayaṃ samrāṭ bhī usakā abhyāsa
karate haiṃ | isī lie unhoṃne saiṃḍo ko apanā rājakīya
vyāyāma-śikṣaka niyukta kiyā thā | aise sammānya pada para
vartamāna sasāra kā koī pahalavāna abhī taka nahīṃ pahuṁcā |
saiṃḍo kī mṛtyu se pāścātya saṃsāra kā eka supratiṣṭhita
yaśasvī puruṣasiṃha uṭha gayā |
5-vartamāna nepāla
bhāetavarṣa kī uttarīya sīmā nagarāja himālaya se
ācchādita hai | usī ke aṃdara nepāla-rājya kā vistāra hai |
nepāla-rājya ke uttara meṃ tibbata hai, dakṣiṇa meṃ yukha-prāṃta
aura bihāra ke uttarīya ज़ile haiṃ, pūrva meṃ dārjiṃliṃga aura sikima
tathā paścima kī ora alamoड़ā aura nainītāla haiṃ |
purva se paścima taka rājya kī laṃbāī 450 mīla hai
aura cauड़āī 150 se 160 mīla taka | kula raक़bā
54,000 vargamīla hai | jana-saṃkhyā 56,00,000 hai | prati
vargamīla lagabhaga 100 manuṣya kī bastī hai | yahāṁ gorakhā,


loading ...