Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 35
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0047
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
अद्‌भुत चर्चा ३५
हो जायगी, शर्मिन्दा तो मुझे होना पड़ रहा है । लोग यही
तौ कहते होंगे कि राय साहब के आदमी ऐसे बदमाश और
चोर हैं । तू मेरा नौकर न होता, तो मैं हलकी सज़ा देता,
लेकिन तू मेरा नौकर है, इसलिए कड़ी से कड़ी सज़ा
दूँगा । मैं यह नहीं सुन सकता कि राय साहब ने अपने
नौकर के साथ रिआयत की ।"
यह कहकर राय साहब ने दमड़ी को छ: महीने की
सख़्त क़ैद का हुक्म सुना दिया ।
उसी दिन उन्होंने उस ख़ून के मुक़दमे में ज़मानत ले
ली । मैंने दोनों वृत्तांत सुने और मेरे दिल में यह ख़याल
और भी पका हो गया कि सम्यता केवल हुनर के साथ
ऐब करने का नाम है । आप बुरे से बुरा काम करें, लेकिन
अगर आप उस पर परदा डाल सकते हैं, तो आप सम्य
हैं, सजन हैं, जेंटिलमैन हैं । अगर आप में यह सिफ़त
नहीं, तो आप असभ्य हैं, गँवार हैं, बदमाश हैं । यही
सम्यता का रहस्य है ।

४ - सैंडो
संसार के प्राचीन सम्य देशों के इतिहास में अनेक बड़े-
बड़े शक्तिशाली पुरुषों की कथाएँ पाई जाती हैं । इटली,
मिश्र, यूनान, अरब और फ़ारस के इतिहास भी, ऐसी


ad‌bhuta carcā 35
ho jāyagī, śarmindā to mujhe honā paड़ rahā hai | loga yahī
tau kahate hoṃge ki rāya sāhaba ke ādamī aise badamāśa aura
cora haiṃ | tū merā naukara na hotā, to maiṃ halakī saज़ā detā,
lekina tū merā naukara hai, isalie kaड़ī se kaड़ī saज़ā
dūṁgā | maiṃ yaha nahīṃ suna sakatā ki rāya sāhaba ne apane
naukara ke sātha riāyata kī |"
yaha kahakara rāya sāhaba ne damaड़ī ko cha: mahīne kī
saख़ta क़aida kā hukma sunā diyā |
usī dina unhoṃne usa ख़ūna ke muक़dame meṃ ज़mānata le
lī | maiṃne donoṃ vṛttāṃta sune aura mere dila meṃ yaha ख़yāla
aura bhī pakā ho gayā ki samyatā kevala hunara ke sātha
aiba karane kā nāma hai | āpa bure se burā kāma kareṃ, lekina
agara āpa usa para paradā ḍāla sakate haiṃ, to āpa samya
haiṃ, sajana haiṃ, jeṃṭilamaina haiṃ | agara āpa meṃ yaha siफ़ta
nahīṃ, to āpa asabhya haiṃ, gaṁvāra haiṃ, badamāśa haiṃ | yahī
samyatā kā rahasya hai |

4 - saiṃḍo
saṃsāra ke prācīna samya deśoṃ ke itihāsa meṃ aneka baड़e-
baड़e śaktiśālī puruṣoṃ kī kathāeṁ pāī jātī haiṃ | iṭalī,
miśra, yūnāna, araba aura फ़ārasa ke itihāsa bhī, aisī


loading ...