Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 23
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0035
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
अद्‌भुत चर्चा २३
ही दम लेती हैं और थोड़ी देर में अनंत चिउँटियाँ उसे
उठाकर अपने बिल में पहुँचा देती हैं । चिउँटियों की एक
जातिविशेष होती है । उनके पिछले भाग में एक थैली-सी
रहती है, उसमें एक प्रकार का मीठा रस भरा रहता है ।
उन्हें चिउँटियाँ बड़े आराम से रखती हैं । वे उनकी गाएँ
हैं । उनके रस को वे धीरे-धीरे पीती रहती हैं । यदि किसी
कारण वे दूध (रस) अच्छी तरह नहीं देती, तो अपने
अगले मूँछो से उनको चपचपाकर वे दूध उतार लेती हैं
और खूब छक जाने पर छोड़ती हैं, बीच में नहीं ।
३ -सम्पता का रहस्य
(१)
यों तो मेरी समझ में दुनिया की एक हज़ार एक बातें
नहीं आतीं - जैसे लोग प्रातःकाल उठते ही बालों पर छुरा
क्यों चलाते हैं? क्या अब पुरुषों में भी इतनी नज़ाकत आ
गई है कि बालों का बोझ उनसे नहीं सँभलता । एक साथ
ही सभी पढ़े-लिखे आदमियों की आँखें क्यो इतनी कमज़ोर
हो गई हैं? दिमाग़ की कमजोरी ही इसका कारण हो या
और कुछ लोग ख़िताबों के पीछे क्यों इतने हैरान होते हैं,
इत्यादि - लेकिन इस समय मुझे इन बातों से मतलब नहीं ।


ad‌bhuta carcā 23
hī dama letī haiṃ aura thoड़ī dera meṃ anaṃta ciuṁṭiyāṁ use
uṭhākara apane bila meṃ pahuṁcā detī haiṃ | ciuṁṭiyoṃ kī eka
jātiviśeṣa hotī hai | unake pichale bhāga meṃ eka thailī-sī
rahatī hai, usameṃ eka prakāra kā mīṭhā rasa bharā rahatā hai |
unheṃ ciuṁṭiyāṁ baड़e ārāma se rakhatī haiṃ | ve unakī gāeṁ
haiṃ | unake rasa ko ve dhīre-dhīre pītī rahatī haiṃ | yadi kisī
kāraṇa ve dūdha (rasa) acchī taraha nahīṃ detī, to apane
agale mūṁcho se unako capacapākara ve dūdha utāra letī haiṃ
aura khūba chaka jāne para choड़tī haiṃ, bīca meṃ nahīṃ |
3 -sampatā kā rahasya
(1)
yoṃ to merī samajha meṃ duniyā kī eka haज़āra eka bāteṃ
nahīṃ ātīṃ - jaise loga prātaḥkāla uṭhate hī bāloṃ para churā
kyoṃ calāte haiṃ? kyā aba puruṣoṃ meṃ bhī itanī naज़ākata ā
gaī hai ki bāloṃ kā bojha unase nahīṃ saṁbhalatā | eka sātha
hī sabhī paढ़e-likhe ādamiyoṃ kī āṁkheṃ kyo itanī kamaज़ora
ho gaī haiṃ? dimāग़ kī kamajorī hī isakā kāraṇa ho yā
aura kucha loga ख़itāboṃ ke pīche kyoṃ itane hairāna hote haiṃ,
ityādi - lekina isa samaya mujhe ina bātoṃ se matalaba nahīṃ |


loading ...