Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 124
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0156
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
१२४ अद्‌भुत चर्चा
और जाँचा । तुरन्त ही दूसरा चूहा भी आया, बात-की-बात में
बीसों चूहे आ पहुँचे । कुछ कूद-कूदकर मचान पर पहुँच गये,
और एक दूसरे का पूँछ और पैर से इस प्रकार बाँध लिया
कि मचान से ज़मीन तक ज़ंजीर की लड़-सी बन गई । उसके
सहारे कुछ चूहे ऊपर मचान पर चढ़ गये, और एक-एक
अंडा निकालने और अपने बिल में ले जाकर रख आने लगे ।
४० मिनट में सारी टोकरी ख़ाली हो गई । किंतु वाह रे
चूहे । एक भी अण्डा ज़मीन पर गिरकर नहीं फूटा । सबके
सब उनके घर पहुँच गए ।
११ - निराले पेड़
परमात्मा की प्रकृति का साम्राज्य विचित्रताओं से पूर्ण है ।
इस भूमंडल पर भिन्न-भिन्न प्रदेशों में ये विचित्रताएँ ऐसी अद्‌भुत
हैं कि उन्हें देखकर अवाक् रह जाना पड़ता है । निराले पेड़
भी उन विचित्रताओं में से एक हैं । फल और फूल देनेवाले
पेड़ को तो शायद ही कोई ऐसा होगा, जिसने न देखा हो ।
पर फल-फूलों के अतिरिक्त दूध, रोटी, मक्खन और यहाँ तक
कि कपड़ा देनेवाले वृक्षों को देखना तो दूर रहा, अच्छों-अच्छों
ने उनका नाम ही न सुना होगा; परन्तु यह बात है बिलकुल
सत्य कि उक्त प्रकार के पेड़ इस मृत्युलोक के धरातल पर ही
पाए जाते हैं ।


124 ad‌bhuta carcā
aura jāṁcā | turanta hī dūsarā cūhā bhī āyā, bāta-kī-bāta meṃ
bīsoṃ cūhe ā pahuṁce | kucha kūda-kūdakara macāna para pahuṁca gaye,
aura eka dūsare kā pūṁcha aura paira se isa prakāra bāṁdha liyā
ki macāna se ज़mīna taka ज़ṃjīra kī laड़-sī bana gaī | usake
sahāre kucha cūhe ūpara macāna para caढ़ gaye, aura eka-eka
aṃḍā nikālane aura apane bila meṃ le jākara rakha āne lage |
40 minaṭa meṃ sārī ṭokarī ख़ālī ho gaī | kiṃtu vāha re
cūhe | eka bhī aṇḍā ज़mīna para girakara nahīṃ phūṭā | sabake
saba unake ghara pahuṁca gae |
11 - nirāle peड़
paramātmā kī prakṛti kā sāmrājya vicitratāoṃ se pūrṇa hai |
isa bhūmaṃḍala para bhinna-bhinna pradeśoṃ meṃ ye vicitratāeṁ aisī ad‌bhuta
haiṃ ki unheṃ dekhakara avāk raha jānā paड़tā hai | nirāle peड़
bhī una vicitratāoṃ meṃ se eka haiṃ | phala aura phūla denevāle
peड़ ko to śāyada hī koī aisā hogā, jisane na dekhā ho |
para phala-phūloṃ ke atirikta dūdha, roṭī, makkhana aura yahāṁ taka
ki kapaड़ā denevāle vṛkṣoṃ ko dekhanā to dūra rahā, acchoṃ-acchoṃ
ne unakā nāma hī na sunā hogā; parantu yaha bāta hai bilakula
satya ki ukta prakāra ke peड़ isa mṛtyuloka ke dharātala para hī
pāe jāte haiṃ |


loading ...