Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 18
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0030
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
१८ अद्‌भुत चर्चा
लगा । वह सवेरे घर से निकल जाता और नक़लें करके
भीख माँगकर बुधिया के खाने भर को नाज या रोटियाँ ले
आता था । पुत्र भी अगर होता, तो वह इतने प्रेम से माता
की सेवा न करता । उसकी नकलों से ख़ुश होकर लोग
उसे पैसे भी देते थे । उन पैसों से बुधिया खाने की चीजें
बाज़ार से लाती थी, लोग बुधिया के प्रति बंदर का यह
प्रेम देखकर चकित हो जाते और कहते थे कि यह बंदर
नहीं कोई देवता है ।
२ - पिपीलिकापुराण
योरोप और अमेरिका के प्राणिशास्त्रवेत्ताओं ने पिपी-
लिकाओं के विषय में अनेक पुस्तकें लिखी हैं । एक साहब
ने तो अपनी सारी उम्र चिउँटियों की परीक्षा में व्यतीत
कर दी । उनकी पुस्तक इस छोटे से, पर अद्‌भुत, जीव-
संबंधिनी, पुस्तकों में सबसे अधिक प्रमाणनीय है । चिउँटी
यद्यपि बहुत ही छोटा प्राणी है, तथापि उद्योग और श्रम-
शीलता में मनुष्य उसके सामने कोई चीज़ नहीं । उसका
उद्योग सतत जारी रहता है । ब सों के लिए वे पहले ही
से खाना जमा कर लेती हैं, रहने के लिए मकान बनाती
हैं ; नौकर-चाकर रखती हैं ; गाय-भैंस रखती हैँ ; शिकार


18 ad‌bhuta carcā
lagā | vaha savere ghara se nikala jātā aura naक़leṃ karake
bhīkha māṁgakara budhiyā ke khāne bhara ko nāja yā roṭiyāṁ le
ātā thā | putra bhī agara hotā, to vaha itane prema se mātā
kī sevā na karatā | usakī nakaloṃ se ख़uśa hokara loga
use paise bhī dete the | una paisoṃ se budhiyā khāne kī cījeṃ
bāज़āra se lātī thī, loga budhiyā ke prati baṃdara kā yaha
prema dekhakara cakita ho jāte aura kahate the ki yaha baṃdara
nahīṃ koī devatā hai |
2 - pipīlikāpurāṇa
yoropa aura amerikā ke prāṇiśāstravettāoṃ ne pipī-
likāoṃ ke viṣaya meṃ aneka pustakeṃ likhī haiṃ | eka sāhaba
ne to apanī sārī umra ciuṁṭiyoṃ kī parīkṣā meṃ vyatīta
kara dī | unakī pustaka isa choṭe se, para ad‌bhuta, jīva-
saṃbaṃdhinī, pustakoṃ meṃ sabase adhika pramāṇanīya hai | ciuṁṭī
yadyapi bahuta hī choṭā prāṇī hai, tathāpi udyoga aura śrama-
śīlatā meṃ manuṣya usake sāmane koī cīज़ nahīṃ | usakā
udyoga satata jārī rahatā hai | ba soṃ ke lie ve pahale hī
se khānā jamā kara letī haiṃ, rahane ke lie makāna banātī
haiṃ ; naukara-cākara rakhatī haiṃ ; gāya-bhaiṃsa rakhatī haiṁ ; śikāra


loading ...