Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 115
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0147
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
अद्‌भुत चर्चा ११५
आज के बहुत पहले एस्किमो-जाति का नाम संसार से
उठ गया होता ।
१० - मनुष्यों का शत्रु चूहा
मनुष्य अपने को बहुत बड़ा शिकारी समझता है । जिस
समय मनुष्य के पास अस्र-शस्र नहीं थे, उस समय भी वे
जीविकोपार्जन के लिए पशुओं का शिकार किया करते थे '
अब तो उनके पास नाना प्रकार के अस्त्र-शस्त्र हो गए हैं
वे जंगल के भयंकर जानवरों से भी नहीं डरते, और की तो
बात क्या! सिंह, बाघ आदि जगली जानवर मनुष्यों के इतने
प्रिय शिकार हैं कि मैं समझता हूँ, कुछ दिनों में ये जानवर
इस संसार से नेस्त-नाबूद हो जायेंगे । मनुष्य की शारीरिक
शक्ति तो इतनी ही है, किंतु वह अपने बुद्धि-बल से बड़े-
बड़े मदमत्त हाथियों को भी वशीभूत कर लेता है । अपनी
बुद्धि के ही प्रभाव से वह आज इस पृथ्वी पर अखड राज्य
कर रहा है । किंतु कहावत मशहूर है कि किसी के सब दिन
बराबर नहीं जाते । कौन जानता है कि मनुष्य का आधिपत्य
पृथ्वी पर भविष्य में भी आज-सा बना रहेगा । मनुष्यों के
यों तो प्रायः सभी पशु, कीड़े आदि दुश्मन है; किंतु शायद
उनमें सबसे बढ़ा-चढ़ा चूहा है । चूहा जंगली पशुओं
जैसा भयानक या हिम्मतवर तो नहीं होता; किंतु चालाक,


ad‌bhuta carcā 115
āja ke bahuta pahale eskimo-jāti kā nāma saṃsāra se
uṭha gayā hotā |
10 - manuṣyoṃ kā śatru cūhā
manuṣya apane ko bahuta baड़ā śikārī samajhatā hai | jisa
samaya manuṣya ke pāsa asra-śasra nahīṃ the, usa samaya bhī ve
jīvikopārjana ke lie paśuoṃ kā śikāra kiyā karate the '
aba to unake pāsa nānā prakāra ke astra-śastra ho gae haiṃ
ve jaṃgala ke bhayaṃkara jānavaroṃ se bhī nahīṃ ḍarate, aura kī to
bāta kyā! siṃha, bāgha ādi jagalī jānavara manuṣyoṃ ke itane
priya śikāra haiṃ ki maiṃ samajhatā hūṁ, kucha dinoṃ meṃ ye jānavara
isa saṃsāra se nesta-nābūda ho jāyeṃge | manuṣya kī śārīrika
śakti to itanī hī hai, kiṃtu vaha apane buddhi-bala se baड़e-
baड़e madamatta hāthiyoṃ ko bhī vaśībhūta kara letā hai | apanī
buddhi ke hī prabhāva se vaha āja isa pṛthvī para akhaḍa rājya
kara rahā hai | kiṃtu kahāvata maśahūra hai ki kisī ke saba dina
barābara nahīṃ jāte | kauna jānatā hai ki manuṣya kā ādhipatya
pṛthvī para bhaviṣya meṃ bhī āja-sā banā rahegā | manuṣyoṃ ke
yoṃ to prāyaḥ sabhī paśu, kīड़e ādi duśmana hai; kiṃtu śāyada
unameṃ sabase baढ़ā-caढ़ā cūhā hai | cūhā jaṃgalī paśuoṃ
jaisā bhayānaka yā himmatavara to nahīṃ hotā; kiṃtu cālāka,


loading ...