Siṃha, Śrīdhara [HerausgeberIn] [Editor]
Adbhuta carcā — Lakhanaū, 1949

Page: 116
DOI Page: Citation link: 
https://digi.ub.uni-heidelberg.de/diglit/simha1949/0148
License: Free access  - all rights reserved Use / Order
0.5
1 cm
facsimile
११६ अद्‌भुत चर्चा
चतुर, तेज़, फुर्तीला, बेफ़िक्र और साहसी होता है । वह
कमीना, लोभी, कंजूस, मैला और नफ़रत करने योग्य पशु
है । इसलिए उसकी ओर मनुष्यों का ध्यान बहुत कम जाता
है । किंतु मनुष्यों का सबसे बड़ा शत्रु यही छोटा-सा जानवर
है । स्वास्थ्य और आर्थिक दृष्टि से विचार करने पर हम
इसी नतीजे पर पहुँचते हैं कि चूहा मनुष्य-जाति को इस
संसार से हमेशा के लिए बिदा कर देगा । जिन लोगों ने
चूहों के आचार-व्यवहार और उनकी आदतों का अध्ययन
किया है, उनका कहना है कि इस पशु ने मनुष्यजाति पर
भिखाए हुए सैनिकों की भाँति,. सुसंगठित दल में बँधकर,
धावा बोल दिया है । लड़ाई बड़ी ही घमासान होनेवाली है ।
भविष्य का इतिहास ही बतलावेगा कि विजयश्री किसको
मिलेगी । इस विषय को यहीं छोड़कर मैं चूहों के विषय में
कुछ सुनाना चाहता हूँ ।
संसार में जितनी आबादी मनुष्यों की है, उससें कहीं
अधिक चूहों की अर्थात् इस समय पृथ्वी पर जितने मनुष्य
रहते हैं, उनसे ज्यादा - बहुत ज्यादा - चूहे हैं । कहा जाता
है कि अमेरिका के युनाईटेड स्टेट्स में अन्यान्य देशों से कम
चूहे हैं, किन्तु प्रो० हेरी एच० डोनाल्डसन् ने पता लगाया
है कि वहाँ जितने मनुष्य रहते हैं, प्राय: उतने ही चूहे भी ।
वहाँ चूहों की संख्या १२.००,००,००० से कम नहीं है ।


116 ad‌bhuta carcā
catura, teज़, phurtīlā, beफ़ikra aura sāhasī hotā hai | vaha
kamīnā, lobhī, kaṃjūsa, mailā aura naफ़rata karane yogya paśu
hai | isalie usakī ora manuṣyoṃ kā dhyāna bahuta kama jātā
hai | kiṃtu manuṣyoṃ kā sabase baड़ā śatru yahī choṭā-sā jānavara
hai | svāsthya aura ārthika dṛṣṭi se vicāra karane para hama
isī natīje para pahuṁcate haiṃ ki cūhā manuṣya-jāti ko isa
saṃsāra se hameśā ke lie bidā kara degā | jina logoṃ ne
cūhoṃ ke ācāra-vyavahāra aura unakī ādatoṃ kā adhyayana
kiyā hai, unakā kahanā hai ki isa paśu ne manuṣyajāti para
bhikhāe hue sainikoṃ kī bhāṁti,. susaṃgaṭhita dala meṃ baṁdhakara,
dhāvā bola diyā hai | laड़āī baड़ī hī ghamāsāna honevālī hai |
bhaviṣya kā itihāsa hī batalāvegā ki vijayaśrī kisako
milegī | isa viṣaya ko yahīṃ choड़kara maiṃ cūhoṃ ke viṣaya meṃ
kucha sunānā cāhatā hūṁ |
saṃsāra meṃ jitanī ābādī manuṣyoṃ kī hai, usaseṃ kahīṃ
adhika cūhoṃ kī arthāt isa samaya pṛthvī para jitane manuṣya
rahate haiṃ, unase jyādā - bahuta jyādā - cūhe haiṃ | kahā jātā
hai ki amerikā ke yunāīṭeḍa sṭeṭsa meṃ anyānya deśoṃ se kama
cūhe haiṃ, kintu pro0 herī eca0 ḍonālḍasan ne patā lagāyā
hai ki vahāṁ jitane manuṣya rahate haiṃ, prāya: utane hī cūhe bhī |
vahāṁ cūhoṃ kī saṃkhyā 12.00,00,000 se kama nahīṃ hai |


loading ...